लुका छिपी की जानकारी, कैसे खेले, आदि in Hindi

To read in English->

kids playing hide and seek cartoon
लुका छिपी खेल

लुका छिपी, कौन है नहीं खेला होगा और अगर तुमने ये नहीं खेला तो यार तुम जिन्दा क्यों हो।

तो मजाक होगया लेकिन अगर तुम सही में नहीं जानते तो ये खेल बच्चो में काफी पसंदीदा खेल है

जिसमे एक खिलाडी को बाकि बचे हुए खिलाडियों को ढूंढ़ना पड़ता है।

लुका छिपी का इतिहास

कहा जाता है की इस खेल का उल्लेख दूसरी शताब्दी बीसीई में ग्रीक के लेखक जूलियस पोलक्स (Julius Pollux) ने की थी और वह उसे अपोदीदृष्किन्दा (apodidraskinda) कहते थे

-काफी बड़ा नाम है।

इस खेल को कई देशो में खेला जाता है और अलग जगहों पर अलग नामो से जाना जाता है। जैसे –

स्पेन (Spain) – एल इस्कोंडियट (el escondite)

फ्रांस (France) – जेउ दे कैश-कैश (jeu de cache-cache)

इजराइल (Israel) – मचबाइम (machboim)

दक्षिण कोरिया (South Korea) – सम्बग्गाजील (sumbaggoggil)

दक्षिण अमरीका (South America) – होंडुरस (Honduras)

| Related – कंचे कैसे खेले, जानकारी, आदि

लुका छिपी  कैसे खेले

लुका छिपी का खेल काफी मजेदार और आसान है।

यानि कोई एक खिलाडी अपनी आँखे बंद करके १-१० तक गिनेगा और तबतक बाकि खिलाडियों को छीप जाना है फिर उस (diner) का काम होगा उन सब को ढूंढ़ना।

आगर उससे कोई दीखजए तो उसे उसके नाम के साथ स्टाउए (statue) बोलना है।

छिपे हुए खिलाडी भी अगर उसके स्टेचू (statue) बोलने से पहले उसे (diner) छू कर धप्पा (Dhappa) बोले तो उसे फिर से गिनती कर उन्हें ढूंढ़ना होगा।

इस खेल के भी कई सारे अलग अलग प्रकार है जो की आपको जरूर पसंद आएंगे

kids playing hide and seek
बच्चे लुका छिपी खेलते हुए

लुका छिपी अंतराष्ट्रीय खेल प्रतियोगिता

हर साल इटली में ” नास्कोडिनो वर्ल्ड चैंपियनशिप ” जोकी है एक अंतराष्ट्रीय लुका छिपी स्पर्धा है सिर्फ बड़ो के लिए। मतलब ये सही में कुछ अलग ही पता चला मुझे भी।

Sept २०१७ में ११ देशो से कुल ७० टीम्स ने इसमें हिस्सा लिया था।

मतलब सही में हम इसे बस ऐसे ही छोटा खेल समाज बैठे थे ये तो अंतराष्ट्रीय स्टार पर पोहोच चूका है। 

For more->https://hardcoreitalians.blog/2020/06/05/the-hide-and-seek-world-championship/

लुका छिपी पर मेरे विचार

ये खेल तो हर बच्चे के दिलो में बसा हुआ हे और अगर तुम इस खेल के बारे में कुछ नहीं जानते तो भाई तुम्हारा जीवन काफी अलग गुजरा है।

 ये लिखते हुए याद ए वह दिन जहा भलेही काल परीक्षा हो लेकिन रात होने तक हम दोस्त लुका छिपी खेलते थे।

भले बादमें घरवालों की डाट कहानी पड़ती थी लेकिन इसमें मजा ही इतना आता था। कभी कभी सोचता हु आज भी खेलने मिल जाए तो भी मजा आजाये।

तो अगर ये पढ़ कर आपकी यादे तजा हुई हो तो निचे कमेंट(comment) में बताइये और अकेले-अकेले मत पढ़ो यार दुसरो को भी शेयर(Share) करो उन्हें भी तो पता चले।

और अगर कोई भी सुझाव या किसी खेल की जानकारी चाइये हो तभी कमेंट(comment) में बताइये में जल्द ही उस विषय पर लिख दूंगा।

तोह आजकेलिए बस इतना ही, मिलते फिर एक नए खेल के साथ तब तक के लिए…

—धन्यवाद—

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *