कंचे (Kanche)क्या है ? और कैसे खेले ?

कंचे (Kanche)क्या है ? और कैसे खेले ? post thumbnail image

To read in English >>

Kanche - A childhood game
Kanche – a popular childhood game, image source- releasing-the-magic

अपने बचपन में बाकी कोई खेल खेला हो या ना खेला हो लेकिन कंचे जरूर खेले होंगे। लेकिन अगर ये नाम आप पहली बार सुन रहे हो तोह भाई तुम्हारा बचपन काफी अलग गुजरा है।

खेल एकदम आसान है और इसे एकसाथ कई लोग खेल सकते है। कंचे बचपन में गलियों में खेले जाने वाला एक मशहूर खेल था, बच्चो से लेकर बड़ो तक हर कोई कंचे को उतना ही पसंद करते था।

इसे भी अलग जगहो पर अलग नामो से जाना जाता है। जैसे – 

       गोट्या (Marathi)

       कंचे (hindi)

       मार्बल्स (English)

कंचे का इतिहास

 इसके इतिहास के बारे में कुछ पक्की जानकारी नहीं है। लेकिन कई लोगो को इसके Egypt के कब्रों में होने के सबूत मिले है।

कुछ लोग ये दवा करते है की ये हरापन सभ्यता (Harappan Civilization) के समय से शुरू हुई है।

|Related – जानिए लागोरी के बारे में..

कंचे कैसे खेले

खेल आसान हे एक जगह पर खिलाडी सारे कंचे रखेंगे आर सभी एक एक करके नियमियत दूरी सेऊन  कंचो पर निशाना लगायेंगे तो बस जो जितने कंचो पर निशाना लगा पायेगा  वो कंचे उसके हो जाएंगे।

इससे पता चलेगा आपका निशाना कितना अचूक है। और हमें बचपन में लगता था की जिसके पास सबसे ज्यादा कंचे हो वो सबसे बेहतर है।

Kids playing Kancha
Kids playing Kanche, image source – thecitizen.in

कंचे खेलनेके नियम (Rules)

१. सभी खिलाडी अपने में अपनी-अपनी बारी का क्रम (Sequence) तय करेंगे।

२. कांचा मारते समय आपका अंगुठा जमीं से ऊपर नहीं उठना चाहिए।

३. जो जितने कंचे उड़ाएगा उतने कंचे उसेके हो जाएंगे ।

|Related – जानिए खो-खो के बारे में..

कंचो पर मेरे विचार (My Thoughts)

तो…, मेने बचपन में कंचो को काफी पसंद किया था (में इतना भी बड़ा नहीं हुआ हूँ ) । मतलब छुट्टियों में तोह पूरा दिन निकल जाता था। भले निशाना कितना ही कच्चा हो लेकिन मजा बड़ा आता था। हाला की अभीभी हमारे यहाँ कंचे खेले जाते  है कभी-कभी।

तो अंत में बस यही कहूंगा की ये मेरे सबसे पुराने और पसंदीदा खेलो मैसे एक है।

तोह अगर ये पढ़ कर अपनी पुरानी यादे ताज़ा हुई हो तो comment करना और दोस्तों, परिवारों में share भी करना। यार अकेले मात पढ़ो उन्हें भी यादे ताज़ा करने दो। या फिर अपना कोई किस्सा भी comment में दाल सकते है।

तो बस होगया आजका फिर मिलते अगले खेल के साथ। 

तब तक के लिए…

—Dhanyavaad—

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *